ऑनलाइन हिंदी वर्गपहेली क्रमांक 106

वर्गपहेली 106

123
4
5
6
7
8
910
11



दाएँ से बाएँ
1. दिन-प्रतिदिन, दिन-दिन
3. छिपकर या चुपचाप सुनना
4. विषाणी, शृंगयुक्त, शृंगी, सींगी
5. लाना, ले आना
6. उदण्ड, अक्खड़, उच्छृंखल, उजड्ड, उजबक
8. दारुहलदी, दरुहरिद्रा, कामवती, पीतिका, दार्विका
9. बेसुध होना
10. किसी काम में दृढ़तापूर्वक लगना, नँधना, नंधना, नधना, खेत आदि जोता जाना
11. बढ़ना, प्रबल होना, वर्चस्व होना, प्रधानता होना

ऊपर से नीचे
1. हमेशा, सदा, नित्य, सदैव, नित्य प्रति, सर्वदा, सर्वथा, हरदम, हरवक्त, हरसमय
2. दिन-प्रतिदिन, दिन-दिन, दिन-पर-दिन, दिन-बदिन,
3. अवनति होना,
5. स्वामी बनाना, मालिक बनाना
6. सीमापाल
7. युद्ध करना, लड़ना, संघर्ष करना
10. लगना, जुटना, संयुक्त होना, संलग्न होना, संबंध होना
--

पहेली क्रमांक 105 का हल --
लेबल:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ यहाँ दर्ज करें. स्पैम/वायरस कड़ियों युक्त टिप्पणियों को रोकने हेतु टिप्पणियों पर मॉडरेशन लागू है अतः उन्हें यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है. धन्यवाद.

आसान पहेलियाँ

[आसान][column1]

कठिन पहेलियाँ

[कठिन][column1]

तकनीकी / हास्य-व्यंग्य

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

रचनाकार - हिंदी साहित्य

[कहानी][column1][http://rachanakar.blogspot.com]
[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget