पहेली 208


ऑनलाइन वर्गपहेली क्रमांक - 208
Online Hindi Crossword Puzzle
1 2   3           4 5
        6        
    7        
8       9   10
        11    
    12         13
          14  
15   16       17
            18
  19     20        
  21          
      22   23  



<b>दाएँ से बाएँ</b>
1. १. (पदार्थ) जिसकी रचना में अन्दर कहीं खोखलापन न हो; और इसलिए जो बहुत कड़ा ठस और पक्का हो। जैसे–धातुएँ
4. १. वह गरमी जो तपी हुई जमीन पर पानी गिरने या छिड़कने से उत्पन्न होती है। २. आवेश में आकर तथा कड़े शब्दों में किसी पर प्रकट किया जानेवाला मानसिक असंतोष। क्रि० प्र०—निकालना।
7. १. आकाश। २. अंतःकरण।
8. १. जो किसी अच्छे उद्देश्य की सिद्धि के लिए बलि चढ़ाया गया हो। निछावर।
10. १. सौ का समूह। सैकड़ा। जैसे—दुर्गा शप्तशती। २. दे० शताब्दी।
11. कनफोड़ा नाम की बेल।
13. वह कागज जिसमें छोटे—छोटे छेद करके बेल—बूटे बनाए जाते हैं। और राखी की सहयता से कपड़े पर छापते हैं। (कढ़ाई—बुनाई)।
14. अंशुमान्।
15. ब्रज में गोवर्धन पर्वत के पास का एक सरोवर।
18. शुभ या मंगल करनेवाला।
21. चलविचल। चंचल। अस्थिर।
22. १. सामंत-संबंधी। सामंत का। २. सामंतो प्रणाली से संबंध रखने वाला। सामंती (फ़्यूडल)।
23. १. पोतने की क्रिया या भाव। पोताई। २. मिट्टी का वह लेप जो हँड़िया आदि की पेंदी पर इसलिए चढ़ाया जाता है कि उसमें अधिक आँच न लगे। ३. दे० पुतारा। स्त्री० हिं० पोता (पौत्र) का स्त्री०।

<b>ऊपर से नीचे</b>
2. समानता। बराबरी। स्त्री०व्यर्थ की बकवाद या बहुत बढ़-चढ़कर की जानेवाली बात।
3. १. कोई काम ठीक तरह से चलाने अथवा लोगों को ठीक तरह से रखने के लिए नियम आदि बनाने और उनकी व्यवस्था करने की क्रिया या भाव। ठीक तरह से काम चलाने के लिए कायदे-कानून बनाना। (रेगुलेटिंग) २. नियम
5. मोती।
6. सोहन हलुए की तरह की एक प्रकार की मिठाई।
8. दिशा सूचक यंत्र
9. १. ऐसी छंदोबद्ध कथा या वृत्तान्त जो लोगों के गाने के लिए प्रस्तुत किया गया हो। २. किसी का दिया हुआ छन्दोबद्ध और ज्ञानमय उपदेश। जैसे–रामगीता
10. १. शहीद होने की अवस्था या भाव विशेषतः जहाद में लड़ते हुए प्राण देना। २. वध। ३. गवाही। ४. प्रमाण।
12. १. चन्दन। २. कुटज। ३. जलबेंत।
13. नर्मदा नदी का एक नाम।
16. किसी देश में रहनेवाला सबसे पहली और पुरानी मनुष्य जाति। (प्रिमिटिव रेस)
17. १. विष्णु। २. शिव।
19. जिसका ज्ञान इंद्रियों द्वारा हो सके। पुं० १. वे सब चीजें या बातें जिनका ज्ञान इँद्रियों से होता अथवा हो सकता हो। उदाहरण-गो गोचर जहँ लगि मन जाई।–तुलसी। २. गौओं के चरने का स्थान। चरागाह। चरी। (पास्चर लैंड)
20. १. एक प्रकार का छोटा पेड़ जिसमें छड़ी के आकार की सीधी डालियाँ चारों ओर निकलती है और दोनों ओर सात-आठ अंगुल भर को गोल खुरदरे पत्ते तथा मटर के आकार के फल लगते हैं। २. उक्त वृक्ष का छोटा गोलाकार फल जो वैद्यक में ज्वर
लेबल:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ यहाँ दर्ज करें. स्पैम/वायरस कड़ियों युक्त टिप्पणियों को रोकने हेतु टिप्पणियों पर मॉडरेशन लागू है अतः उन्हें यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है. धन्यवाद.

आसान पहेलियाँ

[आसान][column1]

कठिन पहेलियाँ

[कठिन][column1]

तकनीकी / हास्य-व्यंग्य

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

रचनाकार - हिंदी साहित्य

[कहानी][column1][http://rachanakar.blogspot.com]
[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget