394 - कुछ पक्षियों के सिर पर बने परों का मुकुट।


ऑनलाइन वर्गपहेली क्रमांक - 394
Online Hindi Crossword Puzzle
1 2   3   4
          5
        6    
7   8  
      9        
    10   11  
12     13
      14   15    
16         17  
18      



बाएँ से दाएँ
1. ईमान बेचने की क्रिया या भाव; बेईमानी करना।
5. 1. चाहकर भी किसी काम को न कर पाने की स्थिति 2. विवश होने की अवस्था या भाव 3. लाचारी; पराधीनता।
7. 1. कुछ पक्षियों के सिर पर बने परों का मुकुट।
8. 1. विरह की स्थिति 2. (साहित्य) नायिका या नायक के विरह में आने वाली दस प्रकार की स्थितियाँ
10. 1. बेहद; बेहिसाब; अत्यधिक 2. जिसकी कोई सीमा न हो।
12. 1. हिल-मिल जाना; परचना; मेलजोल होना 2. चिपकना; सटना 3. उलझना।
13. ऐसा थाल जिसमें मिठाइयाँ आदि रखकर फेरीवाले बेचते हैं।
17. ठंडे प्रदेशों में होने वाला एक प्रसिद्ध पौधा जो सुगंध के लिए प्रसिद्ध है; ज़ाफरान।
18. लेख लिखने वाला; निबंधकार; लेखक।

ऊपर से नीचे
2. 1. धोखे का जाल; मोह का फंदा 2. माया 3. घर-गृहस्थी का जंजाल।
3. 1. नाश 2. पतन 3. कार्य करने की अक्षमता 4. उत्पीड़न 5. समाप्त करना।
4. 1. किताब संबंधी; पुस्तकीय; किताब जैसी 2. किताब में लिखी हुई 3. किताब के आकार या रंग रूप का।
6. दूरगामी होने की अवस्था या भाव।
9. 1. आड़ में होना; छिपना 2. झपटना 3. उछलना; कूदना 4. एकदम से टूट पड़ना 5. झेंपना 6. सो जाना 7. पलकों का गिरना या बंद होना 8. ढकना; बंद होना।
10. 1. अशुभ और बुरा गण 2. (छंदशास्त्र) किसी पद्य के आरंभ में चार निषिद्ध गण- जगण
11. प्रातःकाल; सुबह; भोर; सवेरा।
14. एक विराम चिह्न; उपविराम जिसे ऊपर नीचे दो बिंदुओं द्वारा दिखलाया जाता है
15. 1. काँच की वह अलमारी जिसमें सजावटी सामान रखा जाता है 2. वस्तुओं के प्रदर्शन का स्थान।
16. देह के बाल; शरीर पर के नरम बाल; रोआँ।

टिप्पणियाँ

और पहेलियाँ

अधिक दिखाएं

Contact us

नाम

ईमेल *

संदेश *