661- एक फ़सल जिसके बीज को कूटकर चावल निकाले जाते हैं

ऑनलाइन वर्गपहेली क्रमांक - 661
ऑनलाइन उलटपुलट / गड्डमड्ड (स्क्रैम्बल्ड) शब्द पहेली Online Hindi Crossword / scrambled / jumbled word Puzzle
  1 2   3 4
             
  5 6   7  
      8   9
10     11    
          12
    13    
  14   15
  16            
17   18

दाविप बलुआ रछा पझें अबद जलका रिपमासनप सततमा रवाप देगअंश कख़ासर सपटर अंकरगा शनिरवा धान रिफ़ाक कवलन रोकपआफल मातअनिप लबीअकर विलसित शाअतइ

बाएँ से दाएँ
1. 1. प्रकट करना; प्रकटन 2. प्रचार; प्रसार 3. प्रकाशित करना 4. संस्करण; (एडीशन)।
3. आधुनिक बिहार राज्य के एक क्षेत्र में स्थित एक प्राचीन जनपद।
5. 1. किसी चीज़ का चिपचिपा गाढ़ा रस 2. थूक।
7. 1. सोच; चिंता 2. गरज़; ध्यान; ख़याल।
8. दो वस्तुओं को अलग करने वाला।
9. 1. भस्म; राख 2. धूल; मिट्टी 3. जली हुई वस्तु का अंश 4. खारा नमक।
10. बहुत तेज़ चाल
13. 1. कष्ट; परेशानी; विपत्ति; आफ़त; मुसीबत; संकट की अवस्था 2. नाश 3. मृत्यु।
14. 1. किसी चीज़ को खाने या चबाने की क्रिया; ग्रसन 2. निगलना।
15. आँखों में लगाई जाने वाली वह कालिख जो तेल
17. 1. जिसका अपमान हुआ हो; निरादृत 2. तिरस्कृत; ज़लील; (इनसल्टेड)।
18. विशेष रूप से; विशेषतः; ख़ासतौर से।

ऊपर से नीचे
2. 1. शिष्टाचार; शिष्टाचार की मर्यादा 2. बड़ों का आदर-सम्मान; उनके प्रति विनीत व्यवहार 3. साहित्य 4. कायदा; नियम 5. प्रज्ञा; विवेक।
3. 1. जलता हुआ कोयला आदि 2. मंगल ग्रह; मंगलवार 3. भृंगराज; भांगरा; कटसरैया नामक पेड़ 4. कार्बन नामक रासायनिक तत्व।
4. सप्ताह का छठवाँ दिन; सप्ताह के सात दिनों का एक नाम।
6. न्यायालय द्वारा प्रस्तुत किया गया वह पत्र जिसमें किसी पर लगाए हुए आरोपों का विवरण होता है।
7. 1. समाप्त या पूरा करने की क्रिया 2. (वाणिज्य) किसी व्यापारिक संस्था या समूह आदि की देनदारी चुकाकर उसका संपूर्ण व्यवसाय समाप्त करना; ऋण आदि को चुका देना 3. (विधि) किसी कंपनी के व्यवसाय को बंद करने के लिए कंपनी अधिनियम के अनुसार की गई कार्रवाई।
10. 1. फैलाया हुआ 2. ताना हुआ (धनुष आदि) 3. निरंतर; लगातार; अविच्छिन्न।
11. 1. एक फ़सल जिसके बीज को कूटकर चावल निकाले जाते हैं; शालि 2. अनाज; अन्न 3. किसी का दिया हुआ भोजन।
12. एक पौधा जिसकी जड़ रेशम पर रंग चढ़ाने के काम आती है।
13. 1. विलास करता हुआ 2. शोभित 3. चमकता हुआ 4. व्यक्त 5. विनोदी।
16. 1. किसी कार्य या व्यवहार पर लज्जित होने का भाव या अवस्था; शर्मिंदगी 2. किसी बात पर आँखें नीची करना; लजाना।
लेबल:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ यहाँ दर्ज करें. स्पैम/वायरस कड़ियों युक्त टिप्पणियों को रोकने हेतु टिप्पणियों पर मॉडरेशन लागू है अतः उन्हें यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है. धन्यवाद.

आसान पहेलियाँ

[आसान][column1]

कठिन पहेलियाँ

[कठिन][column1]

तकनीकी / हास्य-व्यंग्य

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

रचनाकार - हिंदी साहित्य

[कहानी][column1][http://rachanakar.blogspot.com]
[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget