पहेली 808 : सुख-दुख आदि की अनुभूति या प्रतीति / हल 807

वर्गपहेली varga paheli - 808
ऑनलाइन हिन्दी उलटपुलट / गड्डमड्ड (स्क्रैम्बल्ड) हिंदी शब्द - वर्ग पहेली Online Hindi Crossword / scrambled / jumbled word Puzzle संकेत के रूप में वर्ग पहेली के ठीक नीचे शब्द (उलटपुलट कर) दिए गए हैं
1 2   3
         
      4  
5 6  
      7
  8  
         

मुरदि पनारना रढनाक धचिरायं कबंधकारसं रकम पाचिचिपना नाकरल नवेसंद

बाएँ से दाएँ
1. लसदार होना; चिपचिपा होना।
5. (व्याकरण) वह कारक जिससे एक शब्द का दूसरे शब्द के साथ संबंध सूचित होता है; षष्ठी।
7. 1. कर्म; काम 2. कर्मफल 3. भाग्य; किस्मत। [मु.] -फूटना : भाग्य का साथ न देना। -भोगना : अपने किए हुए कर्मों का फल पाना।
8. नाना का पिता; माता का दादा।

ऊपर से नीचे
2. ऐसी दुर्गंध जो चमड़े या मांस आदि के जलने से फैलती है; चिराँदा।
3. 1. मेघ; बादल 2. मेंढक 3. कामुक मनुष्य।
4. 1. बह जाना; ढुलकना 2. द्रव पदार्थ का झटके से गिर जाना 3. छीजना।
5. 1. सुख-दुख आदि की अनुभूति या प्रतीति 2. ज्ञान; बोध।
6. 1. हाथ से चलाई जाने वाली तोप 2. भोंपा 3. बड़ा ढोल।

--

हल 807

807

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ यहाँ दर्ज करें. स्पैम/वायरस कड़ियों युक्त टिप्पणियों को रोकने हेतु टिप्पणियों पर मॉडरेशन लागू है अतः उन्हें यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है. धन्यवाद.

आसान पहेलियाँ

[आसान][column1]

कठिन पहेलियाँ

[कठिन][column1]

तकनीकी / हास्य-व्यंग्य

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

रचनाकार - हिंदी साहित्य

[कहानी][column1][http://rachanakar.blogspot.com]
[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget