447 - नगर में रहने वाला व्यक्ति


ऑनलाइन वर्गपहेली क्रमांक - 447
Online Hindi Crossword Puzzle
  1     2  
3           4  
  5 6    
          7
  8     9 10  
    11   12
             
13     14     15
             
  16   17

ड़ूगाबि रकोझ हागैज़िरीर नयत तरी आदि वारज़प नाटअँ बुरका टवदी रीगन रसीकखा कँखौरी अढ़ाई सूनअचभि रकागातिसू बाँसुरी णपता दीरीदान ईखा मलसतह

बाएँ से दाएँ
1. 1. ऐसी गुप्त युक्ति अथवा छिपी हुई भलाई जो सहसा ऊपर से देखने से जानी न जा सके; अप्रकट शुभ हेतु 2. हितकर परामर्श; उचित सलाह 3. हित; भलाई 4. नीति।
4. 1. लकड़ी का वह पुराने ढंग का स्तंभ जिसपर दीया रखा जाता है 2. धातु का बना हुआ दीपक रखने का आधार।
5. 1. किसी कार्य निष्पादन के लिए विशेष रूप से दी जाने वाली वाली सूचना या आदेश; (एडवाइस) 2. अधिसूचना।
8. 1. खंदक; सुरंग; खड्ड 2. सुरक्षा की दृष्टि से किले के चारों ओर खोदी जाने वाली नहर 3. युद्ध में खोदा जाने वाला वह गड्ढा जिसमें छुपकर सैनिक बंदूक चलाते हैं। [मु.] -में ढकेलना : मुसीबत में डालना।
9. प्रथा; रिवाज; परंपरा।
11. 1. जो बिगाड़ता हो 2. कलहप्रिय 3. नाशकारी 4. दुश्मनी मोल लेने वाला।
12. नगर में रहने वाला व्यक्ति; नागरिक।
13. 1. उड़ान 2. अहंकार; नाज़।
16. 1. आरंभ 2. पुरातन 3. परमेश्वर 4. सामीप्य।
17. उपस्थित या हाज़िर न होने की अवस्था; नामौजूदगी; अनुपस्थिति।

ऊपर से नीचे
2. 1. किसी वस्तु या पात्र के अंदर भर जाना; समाना; ठीक बैठना; ठीक नाप या माप का होना; यथेष्ट होना; पर्याप्त होना; पूरा पड़ना
3. 1. झकोरने की क्रिया या भाव 2. तेज़ हवा चलने की स्थिति।
4. 1. दीनदार होने की अवस्था या भाव 2. अपने धर्म पर विश्वास 3. धर्मानुकूल आचरण या व्यवहार करने का भाव 4. धार्मिकता।
5. ढाई; दो और आधा। [मु.] -चावल की खिचड़ी अलग पकाना : सभी की अपनी-अपनी राय अलग-अलग होना।
6. 1. वह कमरा या घर जिसमें स्त्री बच्चे को जन्म देती है; सौरी; प्रसव-गृह 2. अस्पताल का वह विभाग जिसमें प्रसव करने के लिए प्रसूता स्त्रियाँ रखी जाती हैं; जच्चा-बच्चा वार्ड।
7. मुख से फूँककर बजाया जाने वाला एक वाद्य जिसे बाँस से बनाया जाता है; कच्चे या पक्के बाँस से बना एक वाद्य; मुरली; वेणु; वंशी।
8. खूबकला नामक वनस्पति का दाना अथवा बीज जो दवा के काम आता है।
10. पुत्र; बेटा।
13. मूल्य; कीमत; दाम।
14. वह बालू जो बरसात के बाद नदी अपने तट पर छोड़ जाती हो और जिसमें अन्न आदि बोया जा सकता हो; भाट।
15. 1. काँख; कुक्षि; बगल 2. काँख या बगल में होने वाला एक प्रकार का फोड़ा; कँखवारी।
लेबल:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणियाँ यहाँ दर्ज करें. स्पैम/वायरस कड़ियों युक्त टिप्पणियों को रोकने हेतु टिप्पणियों पर मॉडरेशन लागू है अतः उन्हें यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है. धन्यवाद.

आसान पहेलियाँ

[आसान][column1]

कठिन पहेलियाँ

[कठिन][column1]

तकनीकी / हास्य-व्यंग्य

[तकनीकी][column1][http://raviratlami.blogspot.com]

रचनाकार - हिंदी साहित्य

[कहानी][column1][http://rachanakar.blogspot.com]
[facebook][blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget